Advertisement
Categories: Uncategorized

नीतिवचन-१०:१७

Spread the love

१७ जो शिक्षा पर चलता वह जीवन के मार्ग पर है, परन्तु जो डांट से मुंह मोड़ता, वह भटकता है:

Advertisement

प्रभु की स्तुति हो!
नीतिवचन से आज का वचन ध्यान के लिए और आत्मनिरीक्षण के लिए एक सरल वचन है, यह समझने के लिए कि हम प्रभु के साथ हमारे चलने में कहां खड़े हैं क्या हम जीवन की ओर जाने वाले सही मार्ग पर खड़े हैं? या हम एक गलत रास्ते पर हैं जो मौत और विनाश की ओर ले जाता है?

Nitivachan 10


बाइबल हमेशा मजबूत तुलना की बात करती है – जीवन और मृत्यु या प्रकाश और अंधकार। इसका अर्थ यह भी है कि इनके बीच मे से जाने का कोई क्षेत्र नहीं हैं। आप या तो जीवन या प्रकाश की तरफ हैं या अंधेरे और मृत्यु के साथ खड़े हैं। संतुलन की कोई गुंजाइश नहीं बची। जैसा कि हम इस सांसारिक जीवन में परमेश्वर के साथ चलते हैं यह सच है कि हमने हमेशा चलने के लिए एक ग्रे क्षेत्र बनाने की कोशिश की है और यह परमेश्वर के वचन के अनुसार स्वीकार्य नहीं है क्योंकि प्रकाशितवाक्य की पुस्तक में यह भी लिखा है कि आप न तो हैं गर्म और न ही ठंडा लेकिन गुनगुना। (संदर्भ वचन ३:१५-१६)
तो इसका मतलब है कि या तो हम सही रास्ते पर चलते हैं या नीतिवचन में दिए गए वचन के अनुसार गलत रास्ता चुनते हैं और यह पूरी तरह से एक व्यक्तिगत पसंद है जो हम बनाते हैं कोई ग्रे क्षेत्र नहीं हैं जैसा कि हम सोचते हैं और यह वह जगह है जहां हम फिसल जाते हैं। आइए हम परमेश्वर के वचन पर पूरी तरह से निर्भर रहना सीखें जो कि जीवित है और हमारी आत्माओं को जीवन देता है, क्योंकि इसके द्वारा हम जीवित रहेंगे और समृद्ध होंगे और इसके बिना हम नष्ट हो जाएंगे और समाप्त हो जाएंगे।

“जिनके कान हैं, वे सुने” आमेन

प्रभु आशिषित करे
रेव्ह. ओवेन
——————————————————

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

Swagatam Pavitra Aatma Lyrics

Swagatam Pavitra Aatma Lyrics स्वागतम पवित्र आत्मा -तेरे ही ज्योति से हम प्रकाशमान हो जाते… Read More

1 month ago

रिहाना ट्वीट

रिहाना ट्वीट आख़िरकार पूरी दुनिया में रिहाना ट्वीट की वजह से भारत देश में चल… Read More

4 months ago

फिरसे वो आग बरसा दे Lyrics

फिरसे वो आग बरसा दे Lyrics फिरसे वो आग बरसा देफिरसे तूफान आने देतेरी महिमा… Read More

5 months ago

तू बढ़े में घटु Lyrics

तू बढ़े में घटु Lyrics तेरे नाम के लिये जिये हमतू बढ़े में घटुमेरे जीवन… Read More

5 months ago

नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समान Lyrics

नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समान Lyrics नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समानहोश में ना रहूंगा मेरा… Read More

5 months ago

भजन संहिता-५०:१४-१७

भजन संहिता-५०:१४-१७१४ परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा, और परमप्रधान के लिये अपनी मन्नतें… Read More

5 months ago