Advertisement
Categories: Uncategorized

१ कुरिन्थियों-५:७-८

Spread the love

७ – पुराना खमीर निकाल कर, अपने आप को शुद्ध करो:
कि नया गूंधा हुआ आटा बन जाओ; ताकि तुम अखमीरी हो, क्योंकि हमारा भी फसह जो मसीह है, बलिदान हुआ है:
८ – सो आओ हम उत्सव में आनन्द मनावें, न तो पुराने खमीर से और न बुराई और दुष्टता के खमीर से, परन्तु सीधाई और सच्चाई की अखमीरी रोटी से:

Advertisement

प्रभु की स्तुति हो!
आज का वचन हमें पुराने स्तर को हटाने का निर्देश देता है ताकि हम एक नए समूह के रूप में सामने आ सकें – अपने आप में ताजगी रहे और पाप से अलग रहे कि जिस तरह से हम चलते हैं और परमेश्वर की आराधना करते हैं वह स्वीकार्य और पवित्र होगा।
जैसा कि हम मसीह के देह और लहू का जश्न मनाते हैं, हमें अपने आप को आत्मा में नवीनीकृत करने की आवश्यकता है अशुद्ध चीजों (पाप की तुलना में रिसाव) को बाहर निकालना जो हमे परमेश्वर की उपस्थिति में शुद्ध और ताजगी के साथ खड़े हो सकते हैं।
हम में से कई रोटी और शराब में हिस्सा लेते हैं। या वास्तव में हमारे दिल में पाप को अलग किए बिना पवित्र भोज, हम वास्तव में इसे गंभीरता से नहीं लेते हैं, लेकिन बहुत ही आकस्मिक रवैये के साथ इसमें भाग लेते हैं लेकिन यह लिखा है कि जब हम ऐसा करते हैं तो यह खुद पर निर्णय लाता है क्योंकि हमने अपने कार्यों का न्याय नहीं किया है और विचारों और इसे खमीर (आध्यात्मिक अशुद्धता) के रूप में जाना जाता है और इस प्रकार हम बिना किसी परिणाम के मसीह के देह को बनाते या गिनते हैं, इस तरह का कृत्य प्रभु के लिए अस्वीकार्य है क्योंकि यह शुद्ध प्रेम है कि उन्होंने अपने पुत्र का बलिदान दिया ताकि जीवन हो सके उसकी जगह पर। यीशु ने अपना स्थान त्याग दिया ताकि हम परमेश्वर की दृष्टि में अच्छे से खड़े हो सकें।
यह आयत हमें हमारे जल्दबाजी को केवल एक पूर्ण अनुष्ठान के रूप में मसीह के शरीर को पूरा करने और उसका हिस्सा बनाने के लिए चेतावनी देती है और यदि आप एक कुरिन्थियों 11: 23-32 में आगे पढ़ते हैं तो यह कहते हैं कि हमें आने वाले समय में खुद को आंकना चाहिए। अंतिम समय में हमारा न्याय संसार के साथ न्याय नहीं होगा।
यह हम सभी के लिए एक महत्वपूर्ण वचन है क्योंकि हमें आकस्मिक और लापरवाह रवैये को खत्म करने और अपने आप को परमेश्वर के अटूट प्रेम में नवीनीकृत करने की आवश्यकता है जो शुद्ध और सच्चाई और ईमानदारी से भरा है। आमेन

1 Kurinthiyo 5

यह वचन हमारी आँखों को सच्चाई और समझ के साथ खोल सकता है कि हम परमेश्वर के हृदय के बारे में विचार कर सकते हैं क्योंकि उन्होंने अपने इकलौते पुत्र यीशु को हर उस व्यक्ति के लिए एक प्रायश्चित्त बलिदान दिया जो उसे मानता है कि उसके लहू की कीमत ने हमे पूरी तरह से विनाश से बचाने के लिए चुका दी है। यीशु के नाम से आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन
——————————————————
मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Share
Published by
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

Ibadat Karo Uski Song Lyrics

Ibadat Karo Uski Song Lyrics ए दुनिया के लोगो ऊँची आवाज़ करो गाओ ख़ुशी के… Read More

23 hours ago

Haath Uthaakar Gaoonga Lyrics

Haath Uthaakar Gaoonga Lyrics येशु मसीह भरोसा मेरातू ही सहारा है मेरामुश्किल समय में तू… Read More

2 days ago

Teri Aaradhna Karu Song Lyrics

Teri Aaradhna Karu Song Lyrics तेरी आराधना करूँतेरी आराधना करूँपाप क्षमा कर, जीवन दे देदया… Read More

7 days ago

Chattan Song Lyrics

Chattan Song Lyrics भवर के बिच मै ,तू कहता है थमजातू मेरी ताकत ,है तू… Read More

1 week ago

Aao Pavitra Aatma Song Lyrics

Aao Pavitra Aatma Song Lyrics आओ पवित्र आत्मा  हम करे स्वागत तुम्हारा आओ यीशु मसीहा … Read More

1 week ago

Us Krus Ki Kya Baat Hai Song Lyrics

Us Krus Ki Kya Baat Hai Song Lyrics उस क्रूस की क्या बात है जिसने… Read More

1 week ago