Advertisement
Categories: Uncategorized

भजन संहिता- १३९:१२

Spread the love

भजन संहिता- १३९:१२
तौभी अन्धकार तुझ से न छिपाएगा, रात तो दिन के तुल्य प्रकाश देगी; क्योंकि तेरे लिये अन्धियारा और उजियाला दोनों एक समान हैं:

Advertisement

प्रभु की स्तुति हो!
हममें से बहुत से लोग अंधेरे से डरते हैं, यह हमारी रीढ़ को कंपकंपी देता है और कल्पना करता है कि वहां क्या हो रहा है। हमारा दिमाग उन चीजों की कल्पना करने के बारे में दौड़ता रहता है जिन्हें हम देख नहीं सकते हैं जो हमें अनिश्चित और भयभीत करता है।
लेकिन यहाँ एक वचन है जो हमें बताती है कि परमेश्वर के लिए ऐसा नहीं है क्योंकि अंधेरा भी परमेश्वर से कुछ भी नहीं छुपा सकता है और रात हमारे परमेश्वर के लिए दिन की तरह ही चमकती है और अंधेरा और प्रकाश दोनों हमारे निर्माता के लिए समान हैं।
हममें से कुछ लोग अंधेरे का फायदा उठाते हैं और उन चीजों को छिपाने की कोशिश करते हैं जिन्हें कोई नहीं जानता होगा (हम यह मान लेते हैं) लेकिन परमेश्वर के लिए ऐसा नहीं है इसलिए उन्हें यह भी पता लगाने की जरूरत नहीं है क्योंकि यहां तक ​​कि अंधेरे को गुप्त रूप से की गई चीजों से पता चलता है – उनके ज्ञान और दृष्टि से कुछ भी छिपा नहीं है। इसलिए हमें यह समझने की जरूरत है कि मनुष्यों द्वारा जो नहीं देखा जा सकता है वह निश्चित रूप से परमेश्वर द्वारा देखा गया है। यहां तक ​​कि अगर हम किसी भी व्यक्ति द्वारा स्वीकार नहीं किए जाते हैं तो भी अच्छे काम परमेश्वर द्वारा सूचित किए जाते हैं और आपको उचित मौसम में पुरस्कृत किया जाएगा।
यह आयत हमें यह भी बताती है कि परमेश्वर के साथ अन्धकार नहीं है; केवल
प्रकाश क्योंकि वह सत्य और धार्मिकता से भरा है जहां भी परमेश्वर की आत्मा जाती है वहां प्रकाश है और परमेश्वर की भलाई को एक स्थिति में प्रकट किया जा सकता है। यह हमें यह भी सिखाता है कि यहां तक ​​कि हमें अंधेरे में देखने का अभ्यास करने की आवश्यकता है – नकारात्मक स्थिति में भी सकारात्मकता की तलाश करें। जैसा कि परमेश्वर करता है और प्रकाश के पुत्र होने के नाते हमें स्वर्ग में अपने पिता के समान होना चाहिए।

Bhajansanhita 139


हमें हर स्थिति में प्रकाश (सत्य) की खोज करने की आवश्यकता है और जब ऐसा होता है तो अंधेरा भी आपके और मेरे लिए उतना ही हल्का होगा।
आइए हम अपने जीवन में सच्ची रोशनी की खोज करने के लिए इस दिन को प्रोत्साहित करें और परमेश्वर का प्रकाश हमें उन रास्तों में मार्गदर्शन करें जो हमें बिना किसी संदेह के और साहस और दृढ़ विश्वास के साथ करना चाहिए जो कि सही और सत्य है और इस तरह से परमेश्वर की धार्मिकता हमारे ऊपर आती है। आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन
——————————————————
मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

निर्गमन- ३४:१-९ मुख्य वचन ८ -९

हमारा परमेश्वर जो दयावान और अनुग्रहकारी है, धीरजवन्त और भलाई और सत्य है उसकी स्तुति… Read More

7 hours ago

यूहन्ना- ५:१९-३०

सारी स्तुति और महिमा हमारे उधारकर्ता प्रभु यीशु मसीह की है। आमेन आज का वचन… Read More

7 hours ago

सभोपदेशक- १२:१३-१४

१३ सब कुछ सुना गया; अन्त की बात यह है कि परमेश्वर का भय मान… Read More

7 hours ago

१ शमूएल३:१९

१ शमूएल३:१९ -और शमूएल बड़ा होता गया, और यहोवा उसके संग रहा, और उसने उसकी… Read More

7 hours ago

गिनती– ३२:८-१५

८ जब मैं ने तुम्हारे बापदादों को कादेशबर्ने से कनान देश देखने के लिये भेजा,… Read More

8 hours ago

यूहन्ना- ५:३०

मैं अपने आप से कुछ नहीं कर सकता; जैसा सुनता हूं, वैसा न्याय करता हूं,… Read More

8 hours ago