एज्रा- १:१-६ और ७:११-२८

ezra 1
Spread the love

आज का वचन परमेश्वर द्वारा इज़राइल को दिया गया अनुग्रह और दया का एक वचन है कि कैसे उसने फारस के राजाओं और बेबीलोन साम्राज्य के लोगों के हृदय को यरूशलेम में मंदिर के पुनर्निर्माण और उन्हें सभी प्रकार की सामग्रियों के साथ सहायता करने के लिए बदल दिया, जिनकी आवश्यकता होगी और परमेश्वर के मंदिर में बलि चढ़ाएँ ।

Advertisement

यह लिखा है कि परमेश्वर ने ऐसा करने के लिए राजाओं के ह्रदय को उभारा
इसका अर्थ है कि जब परमेश्वर आपका पक्ष लेता है, तो वह उन सभी के ह्रदय को भी हिला देगा, जो आपके शत्रु या क़ैदी बनाने वाले को आगे आने में मदद करेंगे और सारी पृथ्वी पर उनके महान नाम के कारण आपकी सहायता करेंगे।
इस वाचन में परमेश्वर ने खुद को राजा साइरस और राजा अर्तक्षरेस और सभी इजरायल के बुजुर्गों के दिलों में स्थानांतरित कर दिया था ताकि वे चाहते थे कि परमेश्वर उन्हें भेजना चाहते थे।

इस वाचन से हमें जो कुछ सीखना और समझना है, वह यह है कि एक बार परमेश्वर किसी विशेष कार्य को करने का निर्णय ले लेता है और वह हमेशा लोगों और राजाओं को कार्य को पूरा करने के लिए आगे बढ़ाता है। कुछ ऐसे लोग हों सकते है जो विरोध करते हैं फिर भी परमेश्वर की योजनाओं को रोक नहीं सकते।
(संदर्भ वचन – अय्यूब ४२:२ )

हम देखते हैं कि परमेश्वर ने राजाओं को स्थानांतरित किया और उन्होंने मंदिर की दीवार बनाने के लिए इजरायल के बुजुर्गों की आत्माओं को हिलाया। इसका मतलब है कि परमेश्वर किसी को भी स्थानांतरित कर सकते हैं यहां तक ​​कि आप को भी, क्या आप उसकी योजनाओं को प्राप्त करने के लिए तैयार हैं?

ezra 1
ezra 1

उसने उन्हें अनुग्रह दिया ताकि अविश्वासियों ने परमेश्वर के भवन के निर्माण के लिए अपने धन का स्वतंत्र रूप से देना शुरू कर दिया।
यहाँ हमें यह समझने की आवश्यकता है कि जब आप परमेश्वर से पक्ष लेते हैं तो कुछ भी संभव है। यहां तक ​​कि विश्वास करने वाले सभी लोगों के लिए असंभव भी संभव हो जाता है।
आप परमेश्वर के पक्ष में चलना शुरू करते हैं और सबसे उच्च के पक्ष के लिए मनुष्य के पक्ष में हैं। परमेश्वर का वचन हमें पहले परमेश्वर के राज्य की खोज करना सिखाता है और बाकी सभी को आपके साथ जोड़ा जाएगा।

जब आप परमेश्वर के राज्य की तलाश करते हैं तो आप अपने सामने आने वाली चुनौतियों का सामना करने के लिए उच्च से अनुग्रह प्राप्त करते हैं ताकि परमेश्वर का कार्य पूरा हो सके, आप उन लोगों का भी सामना कर सकते हैं जो आपके सभी अच्छे कार्यों में आपका विरोध करते हैं लेकिन जब आप सभी में परमेश्वर की तलाश करते हैं तब भी जो आपका विरोध करते हैं, वे आपका समर्थन करेंगे।

क्या आपने हाल ही में अपने जीवन में परमेश्वर की कृपा का अनुभव किया है? यदि नहीं, तो अब समय आ गया है कि पहले परमेश्वर की तलाश करें और सभी चीजों को छोड़ दें, अपनी सभी योजनाओं को अपनी आकांक्षाओं को धूल में छोड़ दें और पहले प्रभु की तलाश करें क्योंकि आप ऐसा करते हैं कि उनकी कृपा आप पर आएगी और ऐसा प्रतीत होने पर भी जहां रास्ता नही है वहा भी आपके लिए एक रास्ता बना देगा।

यिर्मयाह २९:१३ कहता है
तुम मुझे ढूंढ़ोगे और पाओगे भी; क्योंकि तुम अपने सम्पूर्ण मन से मेरे पास आओगे:

परमेश्वर का वचन आज आपसे यह कह रहा है कि आपके सभी कामों को छोड़ने के लिए और उसे पाने की इच्छा रखें, जो राजाओं के दिलों को मोड़ने और आपको उच्च से एहसान देने की शक्ति रखता है, क्योंकि आपने अपने जीवन में उसकी उपस्थिति और उसकी महिमा मांगी है।

इब्रानियों – ११:६ कहता है – “और विश्वास बिना उसे प्रसन्न करना अनहोना है, क्योंकि परमेश्वर के पास आने वाले को विश्वास करना चाहिए, कि वह है; और अपने खोजने वालों को प्रतिफल देता है।”

आइए हम इस दिन एक पल के लिए रुके और प्रतिबिंबित करें और परमेश्वर की उपस्थिति में खड़े होने की इच्छा करें और देखें कि वह आपको स्वर्ग और पृथ्वी को उच्च से एहसान के साथ आशीर्वाद देने के लिए कैसे बदलेगा जहां पूर्व संध्या पर आप एक रास्ता बनाते हैं जो आपके लिए बनाया जाएगा कि आप जान सकें कि आपका परमेश्वर एक जीवित परमेश्वर है जो उन सभी के लिए एक हजार पीढ़ियों के लिए दया और करुणा दिखाता है जो उसे प्यार करते हैं। मैं कहता हूं कि उनके दरबार में धन्यवाद और प्रशंसा के साथ प्रवेश करें कि आपके वर्तमान को उनके पक्ष में स्थानांतरित किया जा सकता है और आपके भविष्य को आपके द्वारा आज के लिए पुरस्कृत किया जाएगा – उनकी अद्धभुत उपस्थिति में खड़े रहें। आमेन और आमेन।

देखो आपके लिए यह प्रभु का वचन है, इसे प्राप्त करें और उसका पवित्र नाम में बनाए जाए। आमेन

प्रार्थना:
परमेश्वर हम पापियों पर दया करते हैं क्योंकि हम अपने स्वयं के जीवन पर प्रतिबिंबित करते हैं और हमें वह नहीं देते हैं जिसका हम वास्तव में हकदार हैं, लेकिन अपनी कृपा और अनुग्रह हमें अपने प्रेम में ढकने दें।
मेरे होठों के शब्द और मेरे हृदय का ध्यान आपको परमेश्वर और उद्धारकर्ता को स्वीकार्य होना चाहिए। आमेन

आज का दिन अद्धभुत हो जैसा कि आप आज और आप के जीवन के हर दिन उसका चेहरे को ढूंढते हैं।आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *