Advertisement
Categories: Uncategorized

लूका- ५:२७-३२

Spread the love

प्रभू की स्तुति हो!
आज का वचन परमेश्वर द्वारा अपने पुत्र यीशु के माध्यम से पापियों को बचाने की योजना के बारे में है।
लूका ५:२७-३२ के इस वचन में। हम देखते हैं कि यीशु ने लेवी नाम के चुंगी लेने वाले को कैसे देखा, और कहा कि मेरे पीछे हो लो। यह एक अनुरोध नहीं बल्कि एक आदेश था। और हम ध्यान दें कि तुरंत उसने वह सब कुछ छोड़ दिया जो वह कर रहा था और उठकर उसके पीछे हो लिया। यह आत्मा में एक पुकार थी … दो क्रियाएं हुईं … क) जो कुछ वह कर रहा था उसे छोड़ दिया और ख) उठ गया (उठने के लिए)

Advertisement

हममें से कई लोगों को मसीह के साथ चलने के लिए कहा जाता है, लेकिन अधिकांश बार इसके साथ और ऊपर उल्लिखित दो कार्यों में चलना मुश्किल होता है। इसका कारण यह है कि हम अपनी सांसारिक योजनाओं और आकांक्षाओं को पूरा करना पसंद करते हैं और इस तरह आत्मा की पुकार सुनना लगभग असंभव हो जाता है।

Luka 5

यीशु ने लेवी (मैथ्यू) के लिए केवल दो वचन कहे “मेरे पीछे हो ले” हालांकि वह कोई ऐसा व्यक्ति था जो हृदय से सच्चा नहीं था लेकिन उसकी आत्मा में तैयार था और इसलिए जब मसीह को प्राप्त करने का बुलावा आया था। यह सहज था। हमें इससे सीखना है और अपने प्रभु के साथ आत्मा में चलने के लिए तैयार रहना है। यह हम में से प्रत्येक के लिए हर दिन एक चुनौती है क्योंकि हम सभी अपने तरीके से पापी हैं और अपनी आत्मा को परमेश्वर की पुकार (इस संसार में परमेश्वर की चीजें) के लिए जीवित रखना सबसे महत्वपूर्ण है तभी परमेश्वर की योजना हमारे जीवन मे सामने आ सकती है । सवाल मसीह के अनुयायियों का है कि हममें से कितने लोग हमारी आत्मा में जीवित हैं।
यह शब्द हमें चुनौती देने के लिए आया है कि हम हर दिन परमेश्वर की बातों का पालन करने के लिए तैयार रहें। यीशु ने कहा कि अगर कोई मेरे पीछे आना चाहता है तो हमें अपना क्रूस रोजाना उठाना होगा और उसके साथ चलना होगा। सांसारिक चीजों के बावजूद हम अपने आप को चारों ओर से घेर लेते हैं, जिसके लिए हमें भीतर से तैयार रहना होगा …

* “१) परमेश्वर के प्रेम के खातिर सबकुछ छोड़ दो। २) हमें अपने जीवन में अपनी बुलाहट के लिए ऊपर उठना होगा” *।

बाइबिल में एक वचन है रोमियो-११:२९ जो इस तरह से कहेता है “क्योंकि परमेश्वर अपने वरदानों से, और बुलाहट से कभी पीछे नहीं हटता।”
इसका अर्थ है कि परमेश्वर की कृपा से एक बार दिए गए आपके जीवन की बुलाहट को वापस नहीं खींचा जाएगा। एकमात्र मुद्दा यह है कि हम सब कुछ छोड़कर उठने और चलने में असमर्थ हैं। यह विशुद्ध रूप से एक व्यक्तिगत निर्णय है जिससे हम समझौता करते हैं या खुद को विरासत से समझौता करने की अनुमति देते हैं – अरे! आज नहीं कल करेंगे! यह एक विचार है जिसे हम अक्सर खुद को समझाते हैं। यह एक निश्चित संकेत है कि हम बीमार हैं और गुरु वैद्य से मदद चाहिए। यह आत्मिक कमजोरी है जो हम सभी के पास है और इसके लिए एकमात्र इलाज आत्मा की पुकार को सुनना और मानना ​​है जो आपके भीतर है। आप एक बार मर चुके थे, लेकिन परमेश्वर की पुकार ने आपको अपनी आत्मा में जगा दिया है। अब आप जीवित हैं और बीमार नहीं हैं। थोडा सा खट्टा मीठा है … लेकिन एक आलसी आदमी को परमेश्वर का राज्य विरासत में नहीं मिलेगा।
हमें इसे अपने हृदय में समझने की जरूरत है और तुरही की अंतिम आवाज के लिए खुद को तैयार करना होगा जो ध्वनि करेगा और यदि हम इस अंतिम आवाज को खो देते हैं तो यह हमारे लिए अच्छा नहीं होगा। क्योंकि मसीह के लोग बादलों में बह उठा लिए जाएंगे और यीशु को उसकी सारी महिमा में शामिल कर लेंगे।
यीशु स्पष्ट रूप से आपके और मेरे लिए आया था, वह हमारी मानवीय धोखाधड़ी और कमजोरियों को जानता है, लेकिन यह हमारे लिए कोई बहाना नहीं है कि हम जो कर रहे हैं उसे छोड़ दें और उसके आह्वान पर उठें।
इसकी कल्पना करें जब अंतिम तुरही फूंकी जाती है। क्या हमारी नौकरियां हमारे पदनाम, हमारे व्यवसाय, हमारे घर, हमारे दोस्त, हमारे परिवार, हमारे पैसे या बचत हमारी एफडी और जमा राशि वास्तव में या ??
जवाब बहुत बड़ा नहीं है!
इसलिए हम अंतिम तुरही के इस आह्वान को स्पष्टता के सुनने की तैयारी कर रहे हैं, क्योंकि हम अभी भी इस दुनिया में जिन चीजों से प्यार करते हैं, उन सभी को छोड़ देने में सक्षम नहीं हैं और इस तरह उस अंतिम को सुनना बहुत मुश्किल है समय आने पर बुलाओ। मैं यीशु के नाम से प्रार्थना करता हूं कि हममें से कोई भी इसे खो ना दे ।

प्रार्थना:
स्वर्गीय पिता आपकी कृपा और दया हमारे जीवन पर निरंतर बनी रहे, हम स्वीकार करते हैं कि हम पापी हैं और आपका वचन कहता है कि आप हमें पापी कहने के लिए आए ताकि हम पश्चाताप कर सकें और बच सकें। हम दुनिया की बाते जो हमारे हृदयो है उसके लिए खेद करते है कि वह हमें एक लता की तरह हम सब पर बढ़ी और उसकी अनुमति हमने दी है और अब यह हमारे चारों ओर खुद को लपेट लिया है। प्रभु हम प्रार्थना करते हैं कि केवल आपका हाथ ही हमें छुड़ा सकता है क्योंकि हम विश्वास करते हैं कि हमारे जीवन में आपकी अपरिवर्तनीय बुलाहट हमें उस सामर्थ और साहस के साथ आशिष देती है जो हमे उन सारे शब्द से छुटकारा दिलाती है बस एक ही विचार में और हमे आत्मा में ऊंचा करो ताकि हम आप के साथ हमेशा जुड़े रहे। यीशु के नाम से आमेन

प्रभु आपके साथ है और उसने आपको अपने प्यारे पुत्र में अनन्त आशिष दिया है और इसे यीशु के नाम से विश्वास के साथ प्राप्त करे।

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

निर्गमन- ३४:१-९ मुख्य वचन ८ -९

हमारा परमेश्वर जो दयावान और अनुग्रहकारी है, धीरजवन्त और भलाई और सत्य है उसकी स्तुति… Read More

1 day ago

यूहन्ना- ५:१९-३०

सारी स्तुति और महिमा हमारे उधारकर्ता प्रभु यीशु मसीह की है। आमेन आज का वचन… Read More

1 day ago

सभोपदेशक- १२:१३-१४

१३ सब कुछ सुना गया; अन्त की बात यह है कि परमेश्वर का भय मान… Read More

1 day ago

१ शमूएल३:१९

१ शमूएल३:१९ -और शमूएल बड़ा होता गया, और यहोवा उसके संग रहा, और उसने उसकी… Read More

1 day ago

गिनती– ३२:८-१५

८ जब मैं ने तुम्हारे बापदादों को कादेशबर्ने से कनान देश देखने के लिये भेजा,… Read More

1 day ago

यूहन्ना- ५:३०

मैं अपने आप से कुछ नहीं कर सकता; जैसा सुनता हूं, वैसा न्याय करता हूं,… Read More

1 day ago