Advertisement
Categories: Uncategorized

मत्ती- १०:१६-२०

Spread the love

हम वास्तव में दिलचस्प समय में रहते हैं और निश्चित रूप से इस तरह के एक दिलचस्प वचन के लिए कहते हैं क्योंकि हम नहीं जानते कि चीजें कैसे चालू होने जा रही हैं, लेकिन हम जानते हैं कि अंत में परमेश्वर हमें एक वचन देने का औचित्य देंगे कि हम इस समय मै भी यीशु की गवाही क्यों दें जो पिता के प्रिय है।

Advertisement

यीशु के शुरवात के वचन “देखो, मैं तुम्हें भेड़ों की नाईं भेडिय़ों के बीच में भेजता हूं सो सांपों की नाईं बुद्धिमान और कबूतरों की नाईं भोले बनो”ये बुद्धि के सामर्थ्यशाली वचन हैं और अगर सही माप और संतुलन में उपयोग किया जाता है, तो मुझे विश्वास है कि हम मसीह में जीत की राह पर चलेंगे।
हर एक जन कहे और अपनी आत्मा में घोषित करे – “यीशु मेरा विजय है”
परमेश्वर आपको भेड़ियों के बीच अपने बच्चों को भेड़ के रूप में भेजते हैं। किस भयावह स्थिति में होना चाहिए। प्रभु स्वयं को एक मेमने के रूप में माना जाता था, जिसने स्वयं को क्रूस पर बलिदान करने के लिए प्रेरित किया। वह हमें ठीक वैसा ही करने के लिए कहता है जैसा उसने किया था और सामान्य तौर पर हम हमेशा आगे की चुनौतियों से डरते हैं।मैं आज आपको बताता हूं कि अगर आप सत्य में, दया में, करुणा और न्याय में चलते हैं, तो आपके पास भेड़ियों के बीच भेड़ की तरह चलने की इच्छाशक्ति और सामर्थ होगा ।

भेड़ें हमेशा खुश रहती हैं और चारागाह (सांसारिक स्थिति) में घूमने में प्रसन्न होती हैं कि उनका चरवाहा उन्हें भी ले गया हैवे इस बात से संतुष्ट हैं कि परमेश्वर ने उन्हें क्या प्रदान किया है और केवल चरवाहे की आवाज सुनते हैं जो वे जानते हैं। दूसरी ओर भेड़ियों को एक दल के रूप में अच्छी तरह से समन्वित किया जाता है, वे शिकार के लिए शिकार करते हैं और एक साथ योजना, रणनीति और चालाकी से खा जाते हैं।
लेकिन आप देखेंगे कि भेड़-बकरियों को वास्तव में चारागाह की तलाश नहीं करनी है, जबकि उन्हें चरवाहे द्वारा चारागाह उपलब्ध कराया जाता है; भेड़ियों के पास चारागाह नहीं है, लेकिन खुद के लिए भोजन तलाशना पड़ता है। इसका मतलब यह है कि अगर हम परमेश्वर को अपना केंद्र बनाते हैं तो सब कुछ हमें परमेश्वर के हाथ और प्राण द्वारा प्रदान किया जाएगा, लेकिन अगर हम अपने स्वयं के चरागाह की खोज करना चाहते हैं तो हमें इसे खोजने के लिए इस दुनिया के भेड़ियों से गुजरना होगा। शायद हम जो चाहते हैं उसे पाने के लिए अपने ईश्वरीय स्वभाव को भी बदल दें। यह वह पतली रेखा है जिसे हमें परमेश्वर की आत्मा द्वारा समझाना और जीतना चाहिए।भले ही हम कई परिस्थितियों का सामना कर रहे हों, फिर भी प्रभु हमें अपने वचनों से बोलने और अपनी स्थितियों में जो कुछ भी करते हैं, उसे सही ठहराने के लिए हमें ज्ञान देंगे। परमेश्वर का वचन जरूरत के समय में हमारी ढाल और सुरक्षा बन जाता है। इस प्रकार हमें ज्ञान प्रदान करता है लेकिन हमें कबूतर के रूप में हानिरहित बनाता है।
नीतिवचन- २५:११”जैसे चान्दी की टोकरियों में सोनहले सेब हों वैसे ही ठीक समय पर कहा हुआ वचन होता है।”

Matti 10

हमारे जीवन की हर परिस्थिति में हमारे पास परमेश्वर का वचन होना चाहिए ताकि हम उससे ज्ञान प्राप्त कर सकें और हर स्थिति में एक उपयुक्त वचन बोलने की स्थिति में हो सकें। इससे हमें जीत मिलती है।जैसा कि लिखा गया है, वचन १९:२० मैं “जब वे तुम्हें पकड़वाएंगे तो यह चिन्ता न करना, कि हम किस रीति से; या क्या कहेंगे:क्योंकि जो कुछ तुम को कहना होगा, वह उसी घड़ी (मतलब उस परिस्थिति में)तुम्हें बता दिया जाएगा:क्योंकि बोलने वाले तुम नहीं हो परन्तु तुम्हारे पिता का आत्मा तुम में बोलता है।” आमेन
इसका स्पष्ट अर्थ है कि विधि और औचित्य का एक वचन आपको अपनी स्थिति में घोषित करने के लिए दिया जाएगा ताकि आप मुसीबत के दिन में बच जाएं।जिन लोगों के पास ज्ञान का यह वचन नहीं है, उन्हें इस दुनिया के भेड़ियों का सामना करना पड़ेगा और टुकड़ों में फाड़ दिया जाएगा। यह इस दुनिया में भी अपने बच्चे या उसकी भेड़ों के लिए परमेश्वर की भविष्यवाणी की बात करता है ताकि आप सुरक्षित चरागाह और उसके आराम कर सकें। यह समय आप समझदारी से चुनते हैं। और आप जिस समय और मौसम में हैं उसे समझें और देखें कि क्या आपके पास यह ज्ञान का वचन है ताकि आपके पास प्रभु की उपस्थिति में सुरक्षित चारागाह और स्वतंत्रता हो। आमेन 
प्रार्थना: सर्व बुद्धि का परमेश्वर आपको खुशी के समय में अपना वचन दें और निराशा में कि हमारा आनंद उनके जीवित वचन में पूरा होगा जो हमें देने और में जीत प्रदान करने की सामर्थ देता है। यीशु के नाम मे आमेन और आमेन

प्रभु आशिषित करे

पासवान ओवेन 


मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

Swagatam Pavitra Aatma Lyrics

Swagatam Pavitra Aatma Lyrics स्वागतम पवित्र आत्मा -तेरे ही ज्योति से हम प्रकाशमान हो जाते… Read More

1 month ago

रिहाना ट्वीट

रिहाना ट्वीट आख़िरकार पूरी दुनिया में रिहाना ट्वीट की वजह से भारत देश में चल… Read More

4 months ago

फिरसे वो आग बरसा दे Lyrics

फिरसे वो आग बरसा दे Lyrics फिरसे वो आग बरसा देफिरसे तूफान आने देतेरी महिमा… Read More

5 months ago

तू बढ़े में घटु Lyrics

तू बढ़े में घटु Lyrics तेरे नाम के लिये जिये हमतू बढ़े में घटुमेरे जीवन… Read More

5 months ago

नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समान Lyrics

नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समान Lyrics नाचूंगा गाऊंगा पगलों के समानहोश में ना रहूंगा मेरा… Read More

5 months ago

भजन संहिता-५०:१४-१७

भजन संहिता-५०:१४-१७१४ परमेश्वर को धन्यवाद ही का बलिदान चढ़ा, और परमप्रधान के लिये अपनी मन्नतें… Read More

5 months ago