Advertisement
Categories: Uncategorized

नीतिवचन-२१:२३

Spread the love

आज का वचन बुद्धि का एक वचन है जिसका उपयोग इन परेशान समय में किया जाना चाहिए। यदि हम इस वचन में सावधानी बरतना सीखते हैं और हम इसका उपयोग करते हैं तो यह निश्चित रूप से हमें संघर्ष और क्रोध और हिंसा और नकारात्मकता से बचाएगा।

Advertisement

आप मुझसे सहमत होंगे कि आज लोग अपने शब्दों पर नियंत्रण नहीं रखते हैं, जिसके परिणामस्वरूप हम एक-दूसरे को गलत समझने के कारण बहुत अधिक विनाश देखते हैं। हम देखते हैं कि लोग विभिन्न सामाजिक प्लेटफार्मों पर कैसे जुड़े हुए हैं और कैसे लोग केवल अपने और अपने विचारों के बारे में बोलते हैं और विवाद और झूठ के कारण दूसरों के साथ झूठी बात और बहस करते हैं।

इन समयों में, परमेश्वर का वचन हमें इस बात से अवगत कराता है कि हम जीवन और मृत्यु के लिए बोलने वाले शब्दों पर नियंत्रण रख कर जो हमारी जबान से निकलते है इस तरह के संघर्ष से दूर रहें। हम जो कहते हैं उसके बारे में विचारशील होना महत्वपूर्ण है क्योंकि यह शब्द हमें खुद को कई मुसीबतों से बचाने के लिए सिखाता है।
हामान ने मोर्दकै के खिलाफ राजा से बात की लेकिन अपने ही शब्दों में उलझ गया।

एलिय्याह ने बात की और अग्नि स्वर्ग से नीचे आई और बलि को भस्म कर दिया और बाल के नबियों को लज्जित किया।
हमारे शब्दों को ऐसा होने दें कि यह परमेश्वर की महिमा करता है क्योंकि बाइबल बताती है कि उसी मुँह से हम आशिष देते हैं और उसी मुँह से हम शाप देते हैं कि सोता मीठा और कड़वा दोनों तरह का पानी दे सकता है?
इसलिए हमारे शब्दों को सही तरीके से चुनने से स्वर्ग से आशिष नीचे आ सकता है और बोले गए गलत शब्द न्याय को भी नीचे ला सकते हैं। जब हम एक-दूसरे से संवाद करते हैं तो हमें सावधानी बरतने की जरूरत होती है ताकि हम भाईचारे के प्रेम और समझ के बजाय संघर्ष का कारण न बनें।

Nitivachan 21

यदि कोई ध्यान देगा .. यीशु के प्रत्येक वचन जो उसने कहे के उसका मूल्य था और उसमे बुद्धि थी, उसने बीमार लोगों को बंदी मुक्त कर दिया और टूटे हुए दिल का उत्थान किया। हमें अपने शब्दों को उस तरीके से संरेखित करने की आवश्यकता है जिसके द्वारा हम परमेश्वर के वचनों की घोषणा करते हैं और सांसारिक कार्य के बजाय ईश्वरीय कार्य को पूरा करते हैं और सफलतापूर्वक ऐसा करते हुए, हम संघर्ष के बजाय आशिष का कारण बनेंगे।
यीशु ने कहा कि –
जो बातें मैं ने तुम से कहीं हैं वे आत्मा है, और जीवन भी हैं। यूहन्ना ६:६३
यीशु के अनुयायियों के रूप में यहां तक ​​कि हमारे शब्दों को परमेश्वर की आत्मा को प्रतिबिंबित करना चाहिए और इसे प्राप्त करने वाले सभी लोगों के लिए जीवन होना चाहिए। आमेन

प्रार्थना:
स्वर्गीय पिता, मैं आपके वचन को समझने के लिए मेरा मन खोलने के लिए धन्यवाद करता हूं और मुझे अपने बोलचाल को आशिष के रूप में उपयोग करने के तरीके को बदलने की आवश्यकता है। मैं आपसे इस दिन मांगता हूं कि आप मेरे मुंह और जीभ को आशिष दे कि मैं अपने दिल से जो कुछ भी व्यक्त करु वह ऐसे वचन हो जो जीवन देते हैं और नुकसान या दुख नहीं देते हैं। यीशु के नाम में मैं आमीन प्रार्थना करता हूँ। आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love
samarpan.thorat@gmail.com

Share
Published by
samarpan.thorat@gmail.com

Recent Posts

Neele Aasma Ke Paar Jayenge Lyrics

Neele Aasma Ke Paar Jayenge Lyrics In Hindi नीले आसमां के पार जाएंगेमेरा येशु रहता… Read More

2 months ago

Hum Gaaye Hosanna Lyrics

Hum Gaaye Hosanna Lyrics In Hindi यीशु मसीह तेरे जैसा है कोई नहींतेरे चरणों में… Read More

2 months ago

Aatma Se Bhar De Mujhe Lyrics

Aatma Se Bhar De Mujhe Lyrics आत्मा से भर दे मुझे, 6 पवित्र आत्मा से… Read More

5 months ago

Utar Aa Utar Aa Lyrics

Utar Aa Utar Aa Lyrics उतर आ उतर आ उतर आ हे रुहे पाक उतर… Read More

6 months ago

Bhajan Sanhita 91

Bhajan Sanhita - 91:1 Read More

7 months ago

Bible Vachan Photo Download

Bible Vachan Photo Download Bible Vachan Photo Download बाइबिल वचन फोटो डाउनलोड For More Bible… Read More

7 months ago