१ कुरिन्थियों- ३:७-८

Bhajansanhita 50
Spread the love

प्रभू की स्तुती हो!

शांति और आनंद की तुम्हारे ऊपर भरपूरी हो …

१ कुरिन्थियों- ३:७-८
इसलिये न तो लगाने वाला कुछ है, और न सींचने वाला, परन्तु परमेश्वर जो बढ़ाने वाला है: लगाने वाला और सींचने वाला दानों एक हैं; परन्तु हर एक व्यक्ति अपने ही परिश्रम के अनुसार अपनी ही मजदूरी पाएगा:

आज का वचन हमें याद दिलाता है कि दुनिया में हम जो भी अच्छा करते हैं उसका मतलब कुछ भी नहीं है अगर मसीह इसके केंद्र में नहीं है। यदि आप जो करते हैं उसके पीछे यीशु का मकसद नहीं है और एक और मकसद निहित है तो यह कोई परिणाम नहीं है। ऐसा होने का कारण यह है कि यद्यपि हमारे पास कई उज्ज्वल विचार हो सकते हैं और कार्य को अस्तित्व में लाने के लिए बहुत प्रयास किए गए हैं जब तक कि परमेश्वर यह आशिष नहीं देते तब तक आपके पास कोई विकास नहीं है।
हर आदमी अपने दिल में सोचता है कि आज मैं ऐसा करूंगा और फिर मैं इसे पूरा करूंगा, लेकिन इसके बिना परमेश्वर द्वारा परिकल्पित किए जाने की कोई विशेष उम्मीद नहीं है, खासकर अगर योजना परमेश्वर के मकसद या मसीह यीशु में केंद्रित नहीं है।

1 Corinthiyo 3
1 Corinthiyo 3

हम कई योजनाओं को बो सकते हैं और अथक परिश्रम कर सकते हैं या उसमें पानी भर सकते हैं। लेकिन यह वचन आज हमसे कहता है कि यदि इसे परमेश्वर द्वारा विकास नहीं दिया गया तो यह समृद्ध नहीं होगा। इसलिए केवल वो ही बुद्धिमान है कि हम अपनी सारी योजनाएँ और आकांक्षाएँ प्रभु को अर्पित करते हैं। और उन चीजों के साथ काम करें जो हर स्थिति या नौकरी या कार्य में उनके नाम की महिमा करें। कई ईसाई केवल रविवार को ईसाई धर्म का पालन करने में विश्वास करते हैं। प्रत्येक रविवार को यह वचन लगाया जाता है लेकिन इतने सालों तक अगर यह फल नहीं देता है तो हम जो कर रहे हैं उसका कोई नतीजा नहीं होता है
लेकिन जब हम बोते हैं या पौधे लगाते हैं और परमेश्वर के महिमामंडन के लिए पानी देते हैं, तो परमेश्वर उसे आशिष देंगे; जो कुछ भी यह एक सांसारिक कार्य या एक राज्य का कार्य है।

भजन संहिता- १-१:३ कहता है – “क्या ही धन्य है वह पुरूष जो दुष्टों की युक्ति पर नहीं चलता, और न पापियों के मार्ग में खड़ा होता; और न ठट्ठा करने वालों की मण्डली में बैठता है: परन्तु वह तो यहोवा की व्यवस्था से प्रसन्न रहता; और उसकी व्यवस्था पर रात दिन ध्यान करता रहता है:वह उस वृक्ष के समान है, जो बहती नालियों के किनारे लगाया गया है: और अपनी ऋतु में फलता है, और जिसके पत्ते कभी मुरझाते नहीं: इसलिये जो कुछ वह पुरूष करे वह सफल होता है।”

यह स्पष्ट है कि वह जो बिना किसी बुरे उद्देश्य (स्व निर्माण के विचार) के साथ चलता है और इस तरह के एक आदमी का आनंद परमेश्वर का नियम है। यह कहता है कि ऐसे व्यक्ति की नौकरी या कार्य समृद्ध होगा – वह जो भी करता है वह समृद्ध होगा। इसलिए यह अधिक नहीं है कि हम क्या सोचते हैं / योजना बनाते हैं लेकिन हमारे विचारों का उद्देश्य और दृष्टिकोण जो परमेश्वर स्थापित करेंगे और इसे समृद्ध बनाएंगे।
आइए हम इस दिन की पेशकश करें और अपनी सभी योजनाओं को अपनी आकांक्षाओं को प्रभू के हाथों में रखें, हमारे इरादों और उद्देश्यों को हमारे और परमेश्वर के बीच स्पष्ट होने दें और जैसे ही यह स्वीकृति में आएगा यह धन्य होगा और आप सभी में समृद्ध होगा।
परमेश्वर द्वारा दिया गया सरल ज्ञान लेकिन हम में से कितने वास्तव में इसका पालन करना चाहते हैं ?? – यह सब रविवार चर्च जाने वालों के लिए है और यह गंभीर गलती है जो हम हालांकि और कार्रवाई में करते हैं, यही कारण है कि हालांकि हम बोते है और पानी देते है लेकिन सांसारिक या आध्यात्मिक रूप से हमारे जीवन में कोई वृद्धि नहीं है।

मैं आज आपको परमेश्वर से इस प्रगतिशील वचन को स्वीकार करने के लिए आमंत्रित करता हूं ताकि आप सभी को समृद्ध कर सकें। इसके लिए परमेश्वर ने शुरू से ही आप सभी को समृद्ध करने की योजना बनाई थी, जिसे आप सबसे उच्च के पुत्र और पुत्री के रूप में जानते होंगे। आप जहा भी जाते है वहा पर परमेश्वर की समृद्धि आ जाती है और उसकी उपस्थिति आपके सामने जाती है। आमेन
अब, यह एक धन्य राज्य नहीं होगा ??
आइए विश्वास और कार्रवाई से चलें कि यह शब्द हमें क्या सिखा रहा है, जो कि वचन के श्रोताओं के लिए नहीं है, लेकिन वचन उसकि की दृष्टि में उचित होंगे और यीशु के नाम में धन्य होंगे। आमेन

आज मैं आत्मा में आप में से हर एक के लिए प्रार्थना करने के लिए नेतृत्व कर रहा हूं जो जीवन के साथ संघर्ष करने में असमर्थ है, क्योंकि आज के हमारे गलत फैसलों की वजह से मुक्ति का दिन है और आपके जीवन पर उसकी कृपा और दया का अतिरेक है जो वह आपको बदल सकता है चारों ओर आप को धार्मिकता और महिमा के पथ पर वापस लाते हैं और आप यीशु मसीह के माध्यम से उसकी समृद्धि और दया और महिमा के अनुसार निर्मित हो सकते हैं जो आपके स्वर्गीय आशिष का द्वार है। इब्राहीम के प्रभु परमेश्वर, इसहाक और याकूब आपको अपने सभी तरीकों से आशिष देते हैं और आपको उन योजनाओं में समृद्ध करते हैं जो महामहिम ने आपके लिए निर्धारित की हैं और क्या आप इन योजनाओं को पा सकते हैं और इसे निस्संदेह चाहते हैं कि आप धार्मिकता और भाग्य के मार्ग में लगाए जा सकें हमारे परमेश्वर द्वारा दिए गए कई गुना आशिष के रूप में आप यीशु मसीह की प्रार्थना में अभी पवित्र आत्मा का अभिषेक प्राप्त करते हैं। आमेन और आमेन

आपने इस दिन अपना अभिषेक प्राप्त किया है क्योंकि प्रभु ने आपको दया दिखाई है। बाहर निकले हुए हथियारों के साथ उससे से चिपके रहना और अपने पूरे सामर्थ के साथ क्योंकि वह महान है।
आमेन

मैं अपने दिल में जानता हूं कि आप परमेश्वर के हाथ से धन्य हैं, कृपया अपनी गवाही साझा करें जैसे परमेश्वर आपको अगुवाई करता है। आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.