१ कुरिन्थियों- १५:३३

Swagat Pavitra Aatma Lyrics
Spread the love

धन्य है प्रभु का नाम!

Advertisement

हम धोखे से भरी दुनिया में रहते हैं।
जो कुछ भी हम देखते हैं या सुनते हैं, उसे देखने के लिए जाँचने की ज़रूरत है कि क्या यह वास्तविक है या नकली है। धोखे की यह भावना हमारे लिए अभी तक समझ में नई नहीं है क्योंकि यह सच्चाई के इतना करीब है कि हम कई बार परिस्थितियों से धोखा खा जाते हैं।

शैतान ने आदम और हव्वा के खिलाफ अदन के बाग में इसका इस्तेमाल किया और आज भी हम परमेश्वर के लोग इस सोच के साथ घुलमिल जाते हैं और इसके शिकार हो जाते हैं।

यह वचन आज स्पष्ट रूप से बताता है कि धोखा मत खाओ! यह एक चेतावनी है ⚠️ और एक निर्देश ताकि परमेश्वर का आदमी या औरत देह में न गिरे या न फिसले।
ज्यादातर बार हम विश्वासियों को दुनिया के सभी प्रकार के लोगों के साथ – कार्यालय में, बाजार में- सड़क पर, हर रोज और हमारी बातचीत में घुलना-मिलना पड़ता है, जो हमें कभी-कभी दुनिया की उन चीजों के लिए खींचा जाता है जो आनंददायक होती हैं। और ऐसे लोगों के साथ काम करने में हमें लगता है कि यदि वह ऐसा महसूस करता है तो उसे एक बार देखने का मन करता है। और फिर आपके दोस्त या सहकर्मी आपको अपनी बातों से समझाने की कोशिश करते हैं। जी भर के जियो! यह दुनिया की आत्मा है जो संतों को धोखा देने के लिए निकल गई है। इसलिए परमेश्वर का वचन हमें इस बात से अवगत कराता है कि दुनिया की दृष्टि में जो अच्छा दिखता है उसके लिए परमेश्वर की दृष्टि में बुराई है और यदि हम इस दायरे में कदम रखते हैं तो हम भ्रष्ट हो जाएंगे और गिरेंगे जैसे हव्वा को धोखा दिया गया था और एक बार आप गिरने से इससे कोई बचा नहीं है।

1 Kurinthiyo 15
1 Kurinthiyo 15

बुराई हमेशा आपको फिसलने और गिरने की कोशिश करती है ताकि आप फिर से इसके विपरीत न उठ सकें। परमेश्वर की आत्मा आपको जानने के लिए अपनी आत्मा में विवेक प्रदान करती है और आपके लिए निर्धारित जाल से बच जाती है। वह बिंदु तब होता है जब हम उस अंतर को मानना ​​या अवज्ञा करना चुनते हैं। हमें हर दिन अधिक से अधिक आत्मा की आवाज पर ध्यान देने की आवश्यकता है ताकि हम दुश्मन के जाल और उग्र तिरो से बच सकें। अच्छा नहीं लग रहा है कि सब कुछ हमारे लिए अच्छा है। जब हम आत्मा में चलते हैं तो हम तुरंत इसे समझ जाते हैं और उन क्षेत्रों में फिसलने और गिरने से बचने में सक्षम होते हैं। अपने आप को और अपने मन को ईश्वरीय चीजों पर टिकाए रखना भी अपने आप को सही दिशा में आगे बढ़ाने में मदद करता है, अगर आप ईश्वर के साथ केंद्रित नहीं हैं तो आप आसानी से दुनिया से विचलित हो जाएंगे और यह सब बहुत ही आकर्षक है, लेकिन सभी लोग इसके लिए नीचे जाते हैं ।

यही कारण है कि यह वचन हमारे जीवन में दैनिक रूप से व्यावहारिक रूप से उपयोग करने के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आमेन
तो आइए हम परमेश्वर के वचन से सतर्क रहें और हमें हर दिन आने वाली सांसारिक स्थितियों से बचने के लिए सक्षम करें। वचन की दिशा का आज्ञाकारी होना बाद में पछताने से बेहतर है।

हो सकता है कि यह वचन यद्यपि आपके हाथ में आत्मा की तलवार हो, जिसका उपयोग आप बुद्धिमानी से बचाव और बुराई की सभी योजनाओं से बचाने के लिए करते हैं, आज मैं यीशु के नाम में प्रार्थना करता हूँ। आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.