२ कुरिन्थियों – १२:९

2 Kurinthiyo 12:9
Spread the love

९ और उस ने मुझ से कहा, मेरा अनुग्रह तेरे लिये बहुत है; क्योंकि मेरी सामर्थ निर्बलता में सिद्ध होती है; इसलिये मैं बड़े आनन्द से अपनी निर्बलताओं पर घमण्ड करूंगा, कि मसीह की सामर्थ मुझ पर छाया करती रहे:

Advertisement

प्रभु की स्तुति हो!
आज का वचन हम सभी पर एक अभिषेक है। यह कहता है कि परमेश्वर का अनुग्रह हमारे लिए पर्याप्त है। यह एक बहुत शक्तिशाली अभिषेक है जो हम पर है। लेकिन दुख की बात है कि हम अक्सर अपने जीवन में इस अभिषेक को संचालित करने की कोशिश करते हैं। यदि परमेश्वर कह रहा है या घोषणा कर रहा है कि उसकी कृपा हमारे लिए पर्याप्त है तो हमें इस पर पूर्ण विश्वास करना चाहिए और इस वचन में चलना चाहिए। इसलिए यह मनुष्य का शब्द नहीं, बल्कि परमेश्वर के मुख से निकला हुआ वचन है। जैसे ही हम इसे स्वीकार करते हैं और अनुग्रह के तहत चलने की कोशिश करते हैं (उसका अनमना कृपा) हम हर परिस्थिति में हमारे लिए परमेश्वर के उद्देश्य को प्राप्त करेंगे। इससे पीछे नहीं हटना है, आप स्थिति में आगे बढ़ेंगे और प्रबल होंगे (खड़े होने में सक्षम) अपनी क्षमताओं के कारण नहीं बल्कि परमेश्वर की क्षमता के द्वारा जो आपके लिए प्रबल होना संभव है और एक स्थिति में विजयी होकर बाहर आएगा। जहां हम हारने और नाकाम होने वाले थे, लेकिन अब हम जीत गए हैं और जीत में उभरा है कि परमेश्वर हमें देता है। इस बात को समझिए कि प्रभु आपके दिलों के लिए बोल रहा है क्योंकि वह एक ऐसा परमेश्वर है जो न केवल बोलता है बल्कि अपनी शक्ति के बल पर ऐसा करता है और उसके वचन और महिमा के लिए किसी को या किसी भी चीज को रोका या रद्द नहीं किया जा सकता है और यहां उनका वचन है जो हमारे लिए और हमें उस पक्ष के माध्यम से जीत दिलाएं जो हमारे लिए उनके प्यार के द्वारा हमें दिया जाता है।

2 Kurinthiyo 12:9
2 Kurinthiyo 12:9

क्या हमें अपने बुलाहट के अनुसार अपने जीवन के हर क्षेत्र में अपनी आज्ञाकारिता और विश्वास के द्वारा उसी प्यार का जवाब नहीं देना चाहिए और उसी प्यार को वापस प्राप्त करना चाहिए? एक बार जब हम इसे समझ जाते हैं, तो हम स्वचालित रूप से परमेश्वर के वचन को महत्व देने लगेंगे और सभी के साथ यह सम्मान करेंगे कि हम इस प्रकार उनकी कृपा की सीमाओं के भीतर काम कर रहे हैं जो हमें हमारे स्वर्गीय पिता द्वारा दिए गए वादे को पूरा करने के बारे में बता रहे हैं। आमेन और आमेन

यह वचन दिलों को मोड़ सकता है और हमारी आत्माओं को समझने और इस तरह से चलने के लिए बढ़ाता है कि यह जानते हुए कि परमेश्वर की कृपा यीशु के नाम पर हमारे ऊपर निवास करती हैं। यीशू के नाम मैं प्रार्थना करता हूं आमेन

प्रभु आशिषित करे
रेव्ह.ओवेन
——————————————————
मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

में आशिक तेरा यीशु

शैतान का फ्यूज़ निकल गया

हमारा अंग्रेजी ब्लॉग पढ़ने के लिए यहाँ क्लिक करे


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *