भजन संहिता- १०३:१३

Aasman Ke Niche Aur Dharti Par Lyrics
Spread the love

प्रभू की स्तुति हो

Advertisement

भजन संहिता- १०३:१३
जैसे पिता अपने बालकों पर दया करता है, वैसे ही यहोवा अपने डरवैयों पर दया करता है:

आज का वचन परमेश्वर की विशेषता पर है – * ‘करुणा’ *

करुणामय होना बहुत मजबूत और शक्तिशाली भावना है। इसका अर्थ है कि आपके दिल में उसी भावना को महसूस करना है जो उनके जीवन में एक स्थिति से गुजर रही है। परमेश्वर हमारे लिए महसूस करता है यह पहली चीज है जिसे हमें महसूस करना चाहिए। और क्योंकि वह हमारे लिए महसूस करता है उसने अपने प्यार को प्रकट करने के लिए अपने एकमात्र पुत्र को भेजा।
करुणा से प्रेम, दया, नम्रता, धैर्य, समझ का प्रवाह होता है, इसलिए यदि हम हर एक के प्रति दयालु हों तो हम निश्चित रूप से कुछ अच्छाई से दूसरे में प्रवाहित होंगे। यह परमेश्वर का एक बहुत महत्वपूर्ण गुण है जिसे करने के लिए हमें आज के समय में आत्मसात करने की आवश्यकता है ताकि हम अपने परम पिता और उसके पुत्र यीशु के चरणों में चलें।
आज भी जब आप किसी चीज या किसी व्यक्ति के लिए महसूस नहीं कर सकते हैं तो उस स्थिति या व्यक्ति से संबंधित होना बहुत मुश्किल हो जाता है। लेकिन परमेश्‍वर का यह अनोखा गुण ही हमें हमारी दयनीय स्थितियों में बचाता है। पर क्या उसने हमारी लाचारी को देखा और हमारे ऊपर दया की और जब उसने हमें बचाने के लिए हमारे जीवन पर अपना अनुग्रह बढ़ाया। उसी तरह अगर हम रोज़ाना इस तरह से अभ्यास कर पा रहे हैं, तो यकीन है कि वही कृपा और दया हमें दिखाती है जो हम खुद को दोहराएंगे और मसीह में अपने कम भाग्यशाली भाइयों और बहनों के लिए रास्ता बनाएंगे।
करुणा दिखाने का अर्थ है सचेत रूप से पहला कदम ’रखना।

Bhajansanhita 103
Bhajansanhita 103


हम में से कई लोग सोचते हैं या कहते हैं, कि अगर वे बदलेंगे तो हम भी बदलेंगे। अगर हम ऐसा सोचते हैं तो यह एक ईश्वरीय विचार नहीं है, बल्कि हमें पहले अर्थ पर दया करनी चाहिए, प्रेम या दया या दया या क्षमा आदि दिखाने में पहला कदम उठाने के लिए तैयार रहना चाहिए। हमें कोई फर्क नहीं पड़ता अगर हम स्वीकार किए जाते हैं या नहीं। ऐसे बहुत से लोग हैं जो अभी तक मसीह को अपने दिल में स्वीकार नहीं करते हैं लेकिन क्या इसका मतलब यह है कि परमेश्वर उन्हें कम दया दिखाता है या उनके साथ अलग व्यवहार करता है। परमेश्वर का प्यार सभी मानव जाति के लिए बाहर चला गया है चाहे हम जो भी महसूस करें या सोचें। हमें भी यही करुणा दिखाने की जरूरत है, जो मुझे विश्वास है कि मसीह के अनुसरण का मूल गुण है
अगर हम केवल अपने हर दिन के जीवन में गंभीरता के साथ इसका अभ्यास कर सकते हैं, तो मेरा मानना ​​है कि हम जिस सुसमाचार का प्रचार करते हैं, उससे हमें कोई फर्क पड़ेगा, क्योंकि हम इसे सिर्फ साझा करने के बजाय उसके द्वारा जीते होंगे।
प्रत्येक दिन एक नया दिन होता है और परमेश्वर को हमारे लिए उसी भावना का अभ्यास करने का अवसर मिलता है जिसके कारण यीशु हमें बचाने आया था।

आइए एक और बाईबल के वचन को देखे

मत्ती-७:१२- इस कारण जो कुछ तुम चाहते हो, कि मनुष्य तुम्हारे साथ करें, तुम भी उन के साथ वैसा ही करो; क्योंकि व्यवस्था और भविष्यद्वक्तओं की शिक्षा यही है:

इसलिए यदि आप दया के साथ और प्रेम के साथ व्यवहार करना चाहते हैं तो यह हमारे जीवन में प्रवाहित होगा जैसे हम दूसरों के लिए करते हैं वैसे ही यह आपके साथ भी किया जाएगा जैसा कि आपने कानून को पूरा किया है (वचन) केवल पत्र द्वारा आत्मा में नहीं। आमेन

प्रभु आपकी कृपा और दया हमारे जीवन पर हमेशा बनी रहे और जिस तरह आप मुझ पर दया करते थे, मुझे उन सभी के लिए दया करने में मदद करें जो आप इस दिन और हर दिन आगे भेजते हैं ताकि मसीह मुझ पर शासन कर सकें यीशु के नाम से प्रार्थना करता हु आमेन और
आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.