नीतिवचन- १३:६-७

Swagat Pavitra Aatma Lyrics
Spread the love

६ धर्म खरी चाल चलने वाले की रक्षा करता है, परन्तु पापी अपनी दुष्टता के कारण उलट जाता है:
७ कोई तो धन बटोरता, परन्तु उसके पास कुछ नहीं रहता, और कोई धन उड़ा देता, तौभी उसके पास बहुत रहता है।

Advertisement

प्रभु की स्तुति हो!
अभ्यास परिपूर्ण बनाता है!
जबकि हम सभी जानते हैं कि हमें यह ध्यान रखने की आवश्यकता है कि हमें भी धार्मिकता (दया, सत्य, प्रेम और न्याय में चलने के लिए) का अभ्यास करने की आवश्यकता है। जबकि हम मसीह के खून से छुड़ाए जाते हैं और उसकी धार्मिकता के तहत खड़े होते हैं (परमेश्वर के साथ पक्ष और अधिकार के साथ खड़े होते हैं) फिर भी हमें उसी धार्मिकता में चलना होगा जिसका अर्थ है कि हम जो उपदेश देते हैं उसका अभ्यास करना। सिद्धांत रूप में हम धार्मिकता से आच्छादित होने का अनुमान नहीं लगा सकते, लेकिन इसका अभ्यास नहीं करेंगे क्योंकि हम केवल आधे रास्ते से ही जा रहे होंगे

Nitivachan 13
Nitivachan 13

परमेश्वर के मार्ग और स्वभाव में चलने वाले धार्मिकता के अर्थ का अभ्यास करके हम अपने जीवन के लिए परमेश्वर के उद्देश्यों को पूरा करते हैं और साथ ही साथ हमारे कार्य धार्मिकता में बोले गए शब्दों से मेल खाते हैं (परमेश्वर के वचन के साथ मान्य या संरेखित करते हैं) यह वही है जो हमारे जीवन पर परमेश्वर की उपस्थिति को धाप लेता है। हालांकि हम बचाने का दावा करते हैं लेकिन अगर हम अधर्म का अभ्यास करते हैं तो हम नई वाचा का रक्त बिना किसी प्रभाव के बनाते हैं क्योंकि हम परमेश्वर के वचन से जुड़े नहीं हैं। जबकि हम मसीह की धार्मिकता का दावा करते हैं, यह केवल उचित है और हमारे जीवन में इस धार्मिकता को प्रतिबिंबित करने का अधिकार है जिसके बिना, हम कर्मों के द्वारा समर्थित होने के बिना अपने विश्वास को स्वीकार करेंगे। हमें वास्तव में इन छोटे भूलों की देखभाल करने की आवश्यकता है जो अंत में हमारे लिए बहुत महंगा हो जाएगा।
हमारे जीवन में उन क्षेत्रों को बदलने के लिए अब ध्यान दिया जाना चाहिए जो वास्तव में मसीह की धार्मिकता से मेल नहीं खाते हैं जिसके तहत हम सभी खड़े हैं और बच गए हैं। लेकिन अगर हम सच्चाई को नहीं समझते हैं और उसका पालन करते हैं, तो न्याय दया और प्रेम हमे खड़े होने की उम्मीद नहीं कर सकते हैं और आखिरी दिन हमारे विश्वास को बचाने की उम्मीद करते हैं और हमारा विश्वास ठीक उसी तरह प्रतिबिंबित होना चाहिए जैसा हम मानते हैं। तब हम मुसीबत के दिन में खड़े होंगे और फिर भी उसकी धार्मिकता से आच्छादित रहेंगे जो दोपहर के सूरज की तरह चमकता रहेगा! आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन
——————————————————
मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाय जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.