यूहन्ना- ५:१९-३०

Aasman Ke Niche Aur Dharti Par Lyrics
Spread the love

सारी स्तुति और महिमा हमारे उधारकर्ता प्रभु यीशु मसीह की है। आमेन

Advertisement

आज का वचन उन सभी के लिए एक विशेष वचन है जो प्रभु को स्वीकार करते हैं और उनके साथ चलना चाहते हैं।
जैसा कि हम इस शास्त्र के माध्यम से पढ़ते हैं, यीशु स्वयं बोलते है और पुष्टि करते है कि “हे परमेश्वर के पुत्र के रूप में वह स्वयं कुछ नहीं कर सकता है, लेकिन जो वह पिता को देखता है; वह जो कुछ भी करता है, बेटा भी उसी तरह करता है। ”
इस कथन को समझना बहुत महत्वपूर्ण है जो यीशु ने कहा था।

यीशु शुरू से ही अपने पिता के साथ परमेश्वर के पुत्र होने के बावजूद वह कबूल करता है कि उसके पिता के बिना वह कुछ नहीं कर सकता। इसके विपरीत, हम दुनिया में हैं जो हमेशा महसूस करते हैं कि हम सब कुछ कर सकते हैं। इस तरह सोचने पर हम खुद को महिमा देते हैं न कि परमेश्वर को।


दूसरी बात, यीशु फिर से कहता है कि वह जो कुछ करता है वह पिता से देखता है और उसी तरह से करता है जिससे यीशु अपने पिता के कार्य का अनुकरण करता है। अब हम किसका अनुकरण करें? – दुनिया की चीजें और व्यवहार सही है? इसलिए परमेश्वर के साथ चलना मुश्किल है क्योंकि हमारे सभी विचार और कार्य परमेश्वर के विचारों के विपरीत हैं। अब यदि यीशु देखता है और ठीक वैसा ही करता है जैसा उसके पिता करते हैं और यदि हम मसीह का अनुकरण करते हैं तो हम मार्ग या परमेश्वर की योजनाओं से भटकेंगे नहीं।
लेकिन चुनौती हमारी इच्छा में है कि हम अपनी मर्जी से परमेश्वर को आगे बढ़ाएं। हर स्थिति में हम यह उम्मीद करते हैं कि परमेश्वर हमारी सोच के अनुसार हमारे लिए समाधान निकालेगा न कि परमेश्वर के तरीकों के अनुसार। यह वह जगह है जहाँ हम गलत होते हैं।
मनुष्य को परमेश्वर की छवि और समानता में बनाया गया था ताकि वह अपनी योजनाओं की सहायता करने के बजाय परमेश्वर की योजनाओं के साथ सहायता कर सके। लेकिन क्योंकि हमारे पास विचार करने की शक्ति है और चुनने की इच्छाशक्ति है, इसलिए हम परमेश्वर की योजना के बजाय अपनी खुद की योजनाओं को चुनते हैं। जैसा कि हम चाहते हैं, परमेश्वर का वचन और योजनाओं का सम्मान करना; हम उसके पवित्र आत्मा के संकेत को सुनते हैं जो परमेश्वर के कामकाज को प्रकट करता है तब हम यह पूरा करने की स्थिति में होंगे कि परमेश्वर ने हमें क्या करने के लिए निर्धारित किया है। बहुत तथ्य यह है कि हम इससे लगातार विचलित होते हैं क्योंकि हम उन चीजों को देख या सुन नहीं सकते हैं जिन्हें करने की आवश्यकता है और यही कारण है कि हम अपनी आवश्यकता के अनुसार नहीं कर सकते हैं।

Yuhanna 5
Yuhanna 5


हर स्थिति में अगर हम केवल यीशु के साथ पालन कर सकते हैं और उससे संबंधित हैं, तो यह हमारे लिए पर्याप्त है क्योंकि हम उस स्थिति में परमेश्वर की पूर्ण इच्छा को पूरा करेंगे।
आप ध्यान देंगे कि जैसे ही आप प्रभु यीशु को अपनी स्थिति में लाते हैं आप शुरू करते हैं या उन चीजों को करने में सक्षम होते हैं जो आप एक व्यक्ति के रूप में पहले नहीं कर पाए थे। यह परमेश्वर की योजना के संरेखण के कारण है जब यीशु या परमेश्वर आपके विचारों का केंद्र बन जाता है। इसके बिना कुछ भी हिलता नहीं दिखता। यह वह सम्मान है जो हमारे पिता ने अपने पुत्र यीशु को दिया है और जब हम अपने दिल में उसका का सम्मान करने के लिए हमारे दिल में चुनते हैं कि हमारी सभी परिस्थितियाँ खुश या उदास हैं, तो परमेश्वर की योजनाएं और आशिष हमारे लिए शुरू हो जाते हैं और हम नए दरवाजे खुलते हुए देखेंगे ।
आज का वचन स्पष्ट है कि हमारे विचारों और योजनाओं को प्रभु यीशु के साथ बनाने की आवश्यकता है ताकि परमेश्वर की योजनाओं के साथ संरेखित करें और हर परिस्थिति और परिस्थिति में यीशु का चयन करें ताकि जब हम अपने दिल में चुनते हैं तो परमेश्वर को स्वीकार करने के लिए सब कुछ चलता है परमेश्वर का सम्मान करने की दिशा में हमारे साथ है।
परमेश्वर की योजना का सरल पालन हमें परमेश्वर की प्रत्यक्ष इच्छा में लगा देता है जिससे हमारे जीवन में परमेश्वर की योजना पूरी होती है। आमेन

सरल शब्दों में, यीशु का अनुसरण करें क्योंकि वह स्वर्ग में अपने पिता का अनुसरण करता है। आप जो कुछ भी करते हैं उसमें परमेश्वर के पुत्र को जोड़ें फिर अपने पिता की इच्छा को स्वर्ग में संरेखित करना शुरू कर देंगे अर्थात हमें प्रभु का सम्मान करने की आवश्यकता है।

आइए हम उन चीजों के बारे में सोचें जो हम कर रहे हैं और हम यह पूरा करना चाहते हैं कि क्या हम वास्तव में प्रभु यीशु को अपनी योजनाओं में शामिल करते हैं? क्या वह हमारी योजनाओं के लेखक हैं? यदि हमारा उत्तर हां है तो यह अद्भुत है, लेकिन यदि नहीं, तो हमें वह परिवर्तन करने की आवश्यकता है।

स्वर्गीय पिता हम हमेशा से यहां वहां दौड़ते आए है, यह भूलकर कि आपने हम में से प्रत्येक के लिए पहले से ही सर्वश्रेष्ठ योजना लिख ​​दी है। यह देखने और समझने के लिए हमारे दिलों की मदद करें और जल्दी से अपनी इच्छा के अनुसार संरेखित करें, जैसा कि आपका पुत्र यीशु है जैसा कि हम यीशु मसीह में हर स्थिति में आपकी इच्छा के अनुसार प्रस्तुत करना सीखते हैं।

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

Psalm 91

समर्पण थोरात

यीशु मसीह

क्रिसमस डे क्यों मनाया जाता है

हिंदी बाइबिल स्टडी


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published.