उत्पत्ति- ११:१-८

Utpati 11
Spread the love

उत्पत्ति- ११:१-८

स्वर्ग से रोटी आज का भविष्यवाणी वचन उत्पत्ति- ११:१-८

Psalm 91Book

आज का वचन प्रारंभिक मनुष्य के दृष्टिकोण, उसके कुछ बनने की इच्छा के बारे में बोलता है जिसे हर कोई जानता और पहचानता है। परमेश्वर का वचन कहता है कि परमेश्वर मनुष्य के हृदय के इरादों का पाठक है। ( सन्दर्भ – यिर्मयाह १७:१०)

जैसे-जैसे आदमी बड़ी बाढ़ के बाद धरती के सामने फिर से बढ़ने और फैलने लगे। एक समय था कि वे सभी एक जगह शिनार नामक स्थान पर एकत्र हुए थे और पूरी पृथ्वी ने एक भाषा बोली थी। और जब वे एक साथ आए तो उन्होंने एक शहर और एक गुम्बट बनाने का फैसला किया ताकि वे अपने लिए एक नाम रख सकें।

Utpati 11
Utpati 11

आज भी हर व्यक्ति अपने लिए एक ऐसा नाम बनाना चाहता है, जिसके लिए उन्हें याद किया जाए (एक विरासत बनाएं)

इसलिए आप देखते हैं कि पुराने दिनों की तरह मनुष्य के विचार और स्वभाव नहीं बदले हैं। आज भी कई राष्ट्र अपनी विरासत का निर्माण करना चाहते हैं। एक महान राष्ट्र या लोगों के रूप में याद किया जाना और मनुष्य के पुत्रो के बीच श्रेष्ठ होना। यह वही चीज है जो पहले हुई थी और परिणाम हमें पहले से ही पता है।
सब कुछ एक बनाने की कोशिश की जाती है जो सकारात्मक दिखती है, फिर भी इसके पीछे की मंशा हमेशा भगवान द्वारा जानी जाती है। लेकिन फिर भी हम ऐसा व्यवहार करते हैं जैसे कोई देख और समझ नहीं सकता है। यह वह हिस्सा है जहां हम गिरते हैं।
मनुष्य के प्रत्येक कार्य के लिए, जैसे कि उत्पत्ति के समय परमेश्वर नीचे आए, यह देखने के लिए कि मनुष्य क्या कर रहे थे और अपने कार्यों के पीछे के इरादे की जाँच करने के लिए आज भी परमेश्वर देखते हैं और यह जाँचने के लिए नीचे आएंगे कि आप क्या बना रहे हैं यदि आप स्वयं का महिमामंडन करते हैं और अपने स्वयं के नाम को बढ़ाता है और अपने स्वयं के गौरव को बढ़ाता है तो यह स्वीकार्य नहीं होगा यह इस अध्याय से सीखने के लिए है।
हाँ, हमें निर्माण करने की आवश्यकता है हमें प्रगति करने की आवश्यकता है लेकिन इस प्रक्रिया में भी हमें विनम्र रहने और परमेश्वर को स्वर्ग और पृथ्वी का निर्माता बनाने की आवश्यकता है। परमेश्वर ने हमें अपनी छवि और समानता में बनाया है लेकिन यह हमारी खुद की आंखों में खुद को ऊँचा करना नहीं बल्कि सच्चाई और विनम्रता में उसके जैसा होना था।
लेकिन दुर्भाग्य से यह एक सबक है जिसे हमने नहीं सीखा है। हम अभी भी अपने लिए बड़े-बड़े पदनामों और नामों का पीछा करते हैं जो हमें अपने बारे में अच्छा महसूस कराते हैं और अंदर जाने के लिए गर्व का एक कदम रखते हैं। बाइबल में दिए गए ये सभी पिछले पाठ हमारे संदर्भ के लिए हैं और खुद को याद दिलाने के लिए सिखाते हैं – हमारे पास कोई विरासत नहीं है सिवाय परमेश्वर ने हमें “उसका पवित्र नाम” दिया है।
जिस मिनट हम इस विरासत से विचलित होते हैं, परमेश्वर आपके काम और आपके द्वारा बनाए गए इरादे की जांच करने के लिए नीचे आएगा।
मूसा की मिसाल पर गौर करें तो वह एक ऐसी विरासत के रूप में जाना जा सकता है जिसे मिस्र के राजकुमारों में से एक के रूप में जाना जा सकता है, भले ही वह फिरौन बन जाए, लेकिन उसने फारो के घर से अलग होना चुना और अपने हिब्रू भाइयों के साथ शामिल हो गया और उनके साथ हो गया , अंत में परमेश्वर ने उन्हें एक ऐसा नाम दिया, जो आज भी सबसे महान भावष्यवक्ताओ में से एक के रूप में आदर और सम्मानित है, जिसके साथ परमेश्वर आमने-सामने बात करते थे।
यहां हमें यह समझने की जरूरत है कि हम अपने जीवन में परमेश्वर के महिमामंडन के लिए हैं, हम उनके लोग हैं, एक चुनी हुई पीढ़ी एक राजकिय महायाजक, एक पवित्र राष्ट्र। हम जहां भी जाते हैं हम मसीह के राजदूत होते हैं। हमारे सभी कार्यों में हम मसीह का प्रतिनिधित्व करते हैं और जब प्रभुओ का प्रभु और राजाओ का राजा खुद को विनम्र कर सकते हैं तो हमें उसके नाम के ऊपर अपना नाम रखने से कितना अधिक बचना चाहिए।

कृपया ध्यान दें कि महिमा और सम्मान और धन प्रभु के हाथ से आता है जिस मिनट में हम यह भूल जाते हैं कि हम गलत है जैसे उत्पत्ति अध्याय ११ के लोगों की तरह हैं।
और हमारे कार्य अब प्रभु को स्वीकार्य नहीं होंगे। यह हमारे दिल में हर समय रखने के लिए एक महत्वपूर्ण सीख है। परमेश्वर का वचन कहता है कि “वह विनम्र को अनुग्रह देता है लेकिन अभिमान को अस्वीकार करता है।” क्यों हम इस वचन को महसूस नहीं कर सकते हैं और समझ सकते हैं कि यह स्पष्ट रूप से दिया गया है और फिर भी हम बार बार उसी जाल में फंस जाते हैं।
जीविका का घमंड ऐसी चीज है जिसे हमें रोजमर्रा के साथ निभाना होगा और जैसा कि हम वचन से सीखते हैं और इसे अपने दैनिक जीवन में लागू करते हैं हम परमेश्वर की योजनाओं के अनुसार प्रबल होंगे और हम सभी में सफल होंगे और वह हमें एक नाम के साथ आशिष देगा स्वर्ग के सभी दूतो से पहले योग्य हैं और आपको पुरुषों के पुत्रों के बजाय परमेश्वर के पुत्र द्वारा स्वीकार किया जाएगा।
आप क्या चुनना चाहते हैं?
जिनके कान है वे सुने। इसके लिए प्रभु का वचन वहाँ के कई लोगों से बोला जा रहा है कि वे भले ही नष्ट न हों, लेकिन हमेशा के लिए जीवन व्यतीत कर सकते हैं। इसके लिए प्रभु का वकहन उन सब के लिए कहा जा रहा है की वे नाश ना हो लेकिन अनन्त जीवन पाए। आमेन

प्रार्थना उत्पत्ति- ११:१-८

आज आपकी उपस्थिति में प्रभु यीशु मुझे आपकी आत्मा की तरह नम्र होने में मदद कीजिये । हालाँकि आपने मुझे सामर्थ प्रदान की है फिर भी मुझे आपकी इच्छा के अनुसार विनम्रता से चलने दें और नाही अपनी इच्छा से। मुझे आपके साथ समय और परिस्थितियों के अनुसार चलने में मदद करें और मैं जल्दबाजी में नहीं बल्कि भय और धार्मिकता के साथ काम करता हूं और यह जानते हुए कि आप मेरे हाथों और उसके इरादे के कामों की जांच करने और मुझे एक उचित इनाम देने के लिए नीचे आएंगे। मैं प्रार्थना करता हूं कि आपके नाम को मेरे जीवन में बढ़ाया जाए कि महिमा केवल आप की हो जो कुछ भी मैं करु उसमे । यीशु के नाम मे आमेन।

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

समर्पण थोरात


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *