यिर्मयाह ३५:१-१८

yirmaya 35
Spread the love

यिर्मयाह ३५:१-१८

स्वर्ग से रोटी आज का भविष्यवाणी वचन यिर्मयाह ३५:१-१८

Psalm 91 Book

सच में परमेश्वर की नजर अपने लोगों पर है। शुरू से ही हम बाइबल की किताबों से देख सकते हैं कि परमेश्वर को इंसानों में किस तरह से दिलचस्पी है और वह कैसे उसे अपनी तमाम परेशानियों से बचाने के लिए इंसान से जुड़ा है और सबसे महत्वपूर्ण बात यह है कि उसे आशिष देने के लिए अवसर दिखता है।
यह वही परमेश्वर है – इब्राहीम का परमेश्वर, इसहाक का परमेश्वर और याकूब का परमेश्वर जिसकी हम सेवा करते है। जी हां पीढियां बीत गयी, लेकिन हमारा परमेश्वर हमेशा के लिए है, और मनुष्य के साथ संगति रखने का उसका मूल गुण कभी नहीं बदला और जैसे हम उसके साथ चलते हैं। भय और आदर में वह हमेशा हमें आशिष देने के अवसर तलाशता रहेगा। आमेन
आज एक पूर्ण गृहस्थी की ऐसी कहानी है जिसने अपने पिता के शब्दों को रिकाबियो के घर में प्रतिष्ठित किया।
वे पूरी तरह से इस आज्ञा का पालन करने लगे थे कि उनके पिता योनादाब ने उन्हें दी थी जो है …
अ) तुम और तुम्हारे पुत्र सदा के लिए कभी दाखमधु ना पीना ।
ब) नाही घर बनाना
क) नाही बीज बोना
ड) नाही दाख की बारी लगाना
ई)ऊपर दिए हुए किसी भी चीज को ना करना लेकिन अपना पूर्ण जीवन तम्बू में व्यतीत करना।
अपने पिता की उपरोक्त पाँच आज्ञाओं का उन्होंने सम्मान किया और पालन किया।

yirmaya 35
yirmaya 35

जब हम इस अध्याय को देखते है तो हम पाते हैं कि परमेश्वर ने भविष्यवक्ता यिर्मयाह के हाथ से उनका परीक्षण कराया और उनके सामने दाखमधु रखी, लेकिन उन्होंने इसे छूने से मना कर दिया और अपने पिता की आज्ञा के अनुसार अपने स्थान पर खड़े रहे।

यह ध्यान रखना वास्तव में महत्वपूर्ण है कि भले ही इस मामले में एक घराना”आपका अपना घराना” ठीक उसी तरह जैसा कि रिकाब, परमेश्वर के वचनों द्वारा खड़ा करना पसंद किया और यह सुनिश्चित किया कि परमेश्वर ने आपको याद रखा है और वह एक परमेश्वर है जो आपको कभी नहीं भूलता है। कुछ समय में इसे याद में लाएगा और आपको सभी लोगों के लिए एक उदाहरण के रूप में पेश करेगा।
यह कल्पना करे की सारे घरानों के बीच मे परमेश्वर ने इस घराने को याद रखा जो उन्होंने किया था इस वजह से।

आज भी जब हम परमेश्वर की आज्ञा मानने के लिए खड़े होते हैं, जो हमारे स्वर्गीय पिता हैं, तो क्या वह हर मार्ग को नही देखेंगे और हमसे प्रसन्न होंगे और आशीष हमारे घराने के ऊपर सदा के लिए बरसायेंगे। बाइबल बताती है कि परमेश्वर हर एक को याद करता है क्योंकि वह हम में से हर एक को जानता है। यह हम हैं, जो उसके वचनों और आदेशों का पालन करते हुए थके हुए हैं जो पहली आज्ञा है।
आज्ञा – और तू प्रभु अपने परमेश्वर से अपने सारे मन से और अपने सारे प्राण से, और अपनी सारी बुद्धि से, और अपनी सारी शक्ति से प्रेम रखना: तू अपने पड़ोसी से अपने समान प्रेम रखना:
इस तरह की एक साधारण आज्ञा जिसमें हमने अपने स्वर्गीय पिता की अवज्ञा की है और यहाँ रिकाब का एक परिवार या घराना है जिसे परमेश्वर कहते हैं कि आज्ञापालन का एक उदाहरण है।
हम इस घराने की तरह क्यों नहीं हो सकते
बाइबल हमें बताती है कि आज्ञाकारिता भेट चढ़ाने से बेहतर है। परमेश्वर के वचन के अनुसार विश्वास करना और चलने का मतलब है आज्ञा मानना जितना आसान हो सकता है, फिर भी ऐसा क्यों है कि हम ऐसे किसी आदेश का पालन नहीं कर सकते हैं?
यह केवल इसलिए है क्योंकि हमने संसार के कई आकर्षणों पर ध्यान केंद्रित किया है। आपके वचनों का मूल्य निश्चित ही होना चाहिए जैसे परमेश्वर के वचनों का मूल्य है क्योंकि यह हर स्थिति में जीवन लाता है और स्थिर रहता है और पूर्ण या सफल होता है।

परमेश्वर कभी भी अपने शब्दों वचनोसे पीछे नही हटता है , लेकिन हम एक चुने हुए लोग हैं, फिर भी हमारे वचन जमीन पर गिर जाते हैं, उनका मतलब कुछ भी नहीं है …. हमारी परमेश्वर के प्रति पहले प्रतिबद्धता है और फिर लोगों के लिए वास्तव में वह मूल्य नहीं है जो हम इसे चाहते हैं और यही कारण है कि हम अपनी स्थितियों को आशीष में बदलने में कई बार ढीले हो जाते हैं जो हमेशा के लिए है।

बस आशिष को देखो जो इस परिवार के साथ उच्चारण किया गया था …. आपको परमेश्वर के सामने खड़े होने के लिए एक आदमी की कमी नहीं होगी .. !!!
यदि आप और आपके घर वाले परमेश्वर के वचन का सम्मान करते हैं, पालन करते हैं और करते हैं, तो ऐसा कोई वचन नहीं होगा या आपके घर पर एक बेहतर आशिष भी डाला जा सकता है। आप इस पर बेहतर विश्वास करते हैं!

मुझे यकीन है कि परमेश्वर ने इस पीढ़ी में कई घरानों को चिह्नित किया है जो वचन से आज्ञाकारी रहे हैं।

सत्य से और आत्मा में और जैसा कि वह आशिष देना जारी रखता है, यह वचन आप सभी के लिए एक प्रोत्साहन हो सकता है जो अभी तक आज्ञाकारिता में चलते है।

उसे और उसके पुत्र यीशु को प्रेम करना, उसके साथ आज्ञाकारिता में चलना है जहाँ परमेश्वर आपकी हर जरूरत को पूरा करेंगे, इससे पहले कि आप पूछें भी। आपके घराने का नाम स्मरण की पुस्तक में लिखा जाएगा और आपका घर परमेश्वर की योजना और समय के अनुसार उठाया जाएगा।

प्रार्थना: यिर्मयाह ३५:१-१८

आइए हम प्रार्थना करें कि यह शब्द हमारे हृदय के लिए एक निरंतर अनुस्मारक होगा कि हम अपने पिता के परमेश्वर का चयन करें और उनके वचनों का सम्मान करें और उनकी संगति में चलें। शाश्वत जीवन यह है कि हम एकमात्र सच्चे परमेश्वर और यीशु मसीह को जान सकते हैं जिसे उन्होंने भेजा था। मैं प्रार्थना करता हूं कि सबसे उच्च यह ज्ञान हमेशा के लिए मार्गदर्शक प्रकाश बन जाए, जिससे हम सभी को विनम्रता और अंत उनकी कृपा के लिए आज्ञाकारी बनने में मदद मिले।
यीशु के नाम मे प्रार्थना करते है।
आमेन और आमेन

प्रभु आशिषित करे
पासवान ओवेन

मत्ती-४:४ – उस ने उत्तर दिया; कि लिखा है कि मनुष्य केवल रोटी ही से नहीं, परन्तु हर एक वचन से जो परमेश्वर के मुख से निकलता है जीवित रहेगा

समर्पण थोरात


Spread the love

Leave a Comment

Your email address will not be published. Required fields are marked *